Jyotish and Chakras – How are they connected?

The Vedic philosophy propounds the theory of Chakras which are the points at which Prana is distributed in the body. One can roughly compare these to the step down transformers that distribute a high level voltage to our homes by bringing it down. Chakra means a whorl of rotating energy resembling a whirlpool. We all have seven main chakras and each chakra is located on a center of a network of nerves. These energy centers are responsible for keeping our spiritual, physical and mental aspects in balance. This is true of every human being.

चक्र सिद्धांत वैदिक दर्शन शास्त्र का एक अभिन्न अंग है। ये वह स्थान हैं जहाँ पर प्राण वायु की ऊर्जा मानव शरीर में वितरित होती है। जिस प्रकार एक बिजली का ट्रांसफार्मर विद्युत् ऊर्जा को एक घर में वितरित करता है ठीक उसी प्रकार ये चक्र प्राण ऊर्जा को सात स्थानों पर शरीर में भेजते हैं। ये स्थान वे केंद्र बिंदु हैं जहाँ से हर अंग में ऊर्जा का संचार होता है।  चक्र की कल्पना एक भंवर के रूप में की जा सकती है जो हम अक्सर अपने वाश बेसिन में देखते हैं।  ये चक्र हमारे आध्यात्मिक, मानसिक और शारीरिक पहलुओं को संतुलन में बनाये रखते हैं।

Each Chakra is ruled by a planet and displays the nature and characteristics of the ruling planet. A horoscope which is made according to our date, place and time of birth shows the placements of planets and their relation to each other. It is a depiction of the Prarabdh Karma which we brought forth in this incarnation and which we would be forced relentlessly to experience.  It also displays how our Chakras are related to each other and their strength and weaknesses.

हर चक्र एक ग्रह से जुड़ा होता है और जुड़े हुए ग्रह की प्रकृति और विशेषताओं को दर्शाता है। हमारी जन्म कुंडली ग्रहों की स्थिति और उनके आपस में तारतम्य की जानकारी देती है और ये बताती है कि हम कैसा प्रारब्ध ले कर आये हैं।  ये कुंडली चक्रों के बल और आपसी संबंधों को भी दर्शाती है।

Our first Chakra is called Mooladhara Chakra or root chakra and is symbolized by a lotus with four petals. Its color is red. This center is located at the base of the spine in the coccygeal region. It is said to relate to the gonads and the adrenal medulla.

हमारा पहला चक्र मूलाधार के नाम से जाना जाता है और इस का प्रतीक लाल रंग का चार पंखुड़ी
01.Muladhar Chakra

का कमल है। मूलाधार चक्र रीढ़ के आधार पर स्थित होता है और प्रजनन अंगों से जुड़ा होता है।

Mooladhara is related to instinct, security, survival and also to basic human potential. Physically, Mooladhara governs sexuality. Mentally it governs stability and emotionally it governs sensuality. Spiritually it governs a sense of security. Mooladhara has a relation to the sense of smell.

मूलाधार मूलतः स्वयं की सुरक्षा और बचाव की प्रवृत्ति से जुड़ा है और संकट के समय भागने या लड़ने का निर्णय करता है। शारीरिक रूप से, यह चक्र कामुकता को नियंत्रित करता है। मानसिक रूप से यह स्थिरता को नियंत्रित करता है और भावनात्मक रूप से यह वासना को नियंत्रित करता है। आध्यात्मिक रूप में यह सुरक्षा की भावना को नियंत्रित करता है। यह चक्र सूंघने की शक्ति से भी जुड़ा है।

This Chakra is where the three main Nadis Ida, Pingla and Sushumna separate and begin their upward movement. Dormant Kundalini rests here, wrapped three and a half times around the black Svayambhu Linga. This is the lowest of three obstructions also known as knots or Granthis to her full rising. The seed syllable is Lam (pronounced lum) and the ruling Shakti is Dakini. The associated animal is the elephant.

हमारी श्वास प्रक्रिया से जुडी तीन नाड़ियां इड़ा पिंगला और सुषुम्ना यहीं से ऊपर की ओर जाती हैं। काले रंग के स्वयंभू लिंग के चारों ओर साढ़े तीन कुंडलियां मारे सुप्त कुंडालिनी यहीं से मस्तिष्क की ओर उठती है। कुंडलिनी जागरण में होने वाली तीन बाधाओं में यह पहली है। इसका बीज शब्द लं है और यह डाकिनी शक्ति का निवास है। इस से जुड़ा पशु हाथी हैl

Mars, governs this Chakra. If this chakra is strong within us, it gives us wisdom and decisiveness in our action, the ability to find the right direction in life and to make correct decisions. Mars represents friendliness and physical strength and action. The energy of Mars is intense, natural and instinctive.

इस चक्र से जुड़ा हुआ ग्रह मंगल है जो कि त्वरित एवं तीव्र निर्णायक शक्ति, शारीरिक बल और कर्मठता का द्योतक है।

The second Chakra is Svadhishsthan Chakra, it is symbolized by a white lotus within which is a crescent moon, with six vermillion, or orange petals. The seed mantra is Vam, and the presiding deity is Brahma the Shakti being Shakini. The animal associated with this Chakra is the crocodile.

दूसरे नंबर पर आने वाले चक्र को स्वाधिष्ठान के नाम से जाना जाता है।  इसका प्रतीक छह भगवे रंग की पंखुड़ियां वाला श्वेत कमल है जिसके बीच में अर्धकार चंद्र बना है। इसका बीज मन्त्र वं है ब्रह्मा इसके अधिष्ठातृ देवता हैं और शाकिनी इसकी शक्ति है। इस से जुड़ा जंतु मगरमच्छ है

02.Svadhishthan Chakra

This Sacral Chakra is located in the sacrum (hence the name) and is considered to correspond to the testes or the ovaries that produce the various sex hormones involved in the reproductive cycle. Swadisthana is also considered to be related to, more generally, the genitor-urinary system and the adrenals. The key issues involving Swadisthana Chakra are relationships, violence, addictions, basic emotional needs, and pleasure. Physically, Swadisthana governs reproduction, mentally it governs creativity, emotionally it governs joy, and spiritually it governs enthusiasm.

यह चक्र कमर की पिछली तिकोनी वाली अस्थि पर विराजमान होता है और अंडकोष, अण्डाशय आदि अंगो से जुड़ा होता है। मानव के प्रजनन से सम्बंधित सभी कार्यों का यह कारक है।  स्वाधिश्ठान का सम्बन्ध रिश्तों, हिंसा, व्यसनों, बुनियादी भावनात्मक जरूरतों, और खुशी से है। स्वाधिश्ठान शारीरिक रूप से, प्रजनन को, मानसिक रूप से रचनात्मकता को , भावनात्मक रूप से खुशी और आध्यात्मिक रूप से उत्साह को नियंत्रित करता है.

Swadishthan, is ruled by Mercury, a planet that governs the signs of Gemini and Virgo in astrology and rules over Buddhi or intelligence. It also governs our problem solving activity. This chakra supports our sense of aesthetics and creativity in all fields. The ability to understand easily, come up with practical solutions to our problems in life and intelligence all come from this chakra. Mercury represents intelligence, the mind and creativity in astrology. Intense mental activity gives rise to anger and impatience. A balanced Svadhishthan enables a person to have clarity of mind to make correct decisions.

स्वाधिष्ठस्तान चक्र बुध द्वारा शासित है, जो ज्योतिष में मिथुन और कन्या राशि का स्वामी बनता है। यह हमारी समस्याओं को सुलझाने की क्षमता का द्योतक है। यह चक्र सौंदर्यबोध और सभी क्षेत्रों में रचनात्मकता के बारे में हमारी समझ को दर्शाता है। मानसिक कार्य करने की क्षमता, आसानी से समस्याओं को समझ जाना और उनके व्यावहारिक समाधान निकाल पाना सभी इस चक्र की देन हैं। यदि यह चक्र असंतुलित हो तो तीव्र मानसिक गतिविधि, की वजह से गुस्से और अधीरता को जन्म देता है।

How did you like this article? Please leave your comments and Blog topics for future.

Readers also liked

Will Arvind Kejriwal win 2017 Punjab elections?

And

Why is 12/8/2016 important?

Rajiv Sethi

rajiv@hinduvedicastro.in

planetstories@gmail.com

Phone consultation: 9899589211

Hindu Vedic Astro is your perfect platform for Yearly and monthly horoscopes. All services like astrology readings, astrology compatibility and astrology reports for all zodiac signs are just a phone call away. Your detailed birth chart is sent absolutely free with every report. Call right now for step by step, simple and easy remedies that work quickly to put your life back on track.
This article is copyrighted 2016. It cannot be used in part or as a whole without the written permission of the author Rajiv Sethi.
Infringement will be prosecuted to the full extent of the law.

Leave a comment

  • Hindu Vedic Astro

    Perfect Platform for Your Health, Money, Career, Business Obstacle, Match Making & Family Prediction.

    Book your Appointment to get Personalised hygroscopic prediction today.

  • Social Links

    Contact Details

    Mobile : +91-9899589211
    Email : rajiv@hinduvedicastro.in
    Rajiv Sethi
    New Delhi, India

  • Reach Us