Jyotish and Chakras Part – II Manipur and Anahat Chakras

The third Chakra is Manipur Chakra which is symbolized by a yellow, downward pointing triangle with ten petals. The seed syllable is Ram, and the
03.Manipur Chakra

presiding deity is Brihada Rudra with Lakini as the Shakti.

तीसरे चक्र मणिपुर का प्रतीक एक पीले रंग की, दस पंखुड़ियों वाल कमल है जिस में एक उल्टा त्रिकोण बना है। इसका बीज मन्त्र रं है, इष्टदेव बृहद रुद्र और शक्ति लाकिनी है।

Manipur is related to the metabolic and digestive systems. This chakra represents satisfaction, balance, morality, generosity and the capacity to evolve. The ruling planet is Jupiter who governs Sagittarius and Pisces signs.

मणिपुर चक्र पाचन प्रणाली से संबंधित है। यह चक्र संतुष्टि, संतुलन, नैतिकता, उदारता और स्वयं के विकास का प्रतिनिधित्व करता है। इसका सम्बन्ध बृहस्पति ग्रह से है जो धनु और मीन राशि का स्वामी है।

Jupiter has a noble, generous, helpful and virtuous nature. Our financial wealth is governed by this planet as is our morality and spirituality. When Neech or afflicted, Jupiter signifies an imbalanced and undecided personality. The person could become an extremist and fanatic, up to the point of inflicting cruelty and tyranny.

बृहस्पति महानता एवं उदारता का ग्रह है, जिसकी मूल प्रवृत्ति धार्मिक है। गुरु हमारे वित्तीय स्तर, नैतिकता और आध्यात्मिकता का द्योतक है । नीच या पीड़ित बृहस्पति एक असंतुलित और दुविधाशील व्यक्तित्व का प्रतीक है। ऐसा व्यक्ति एक उग्रवादी और कट्टरपंथी होता है जो क्रूरता और अत्याचार का केंद्र बिंदु तक बन सकता है।

 Manipur Chakra is believed to correspond to islets of Langerhans, which are groups of cells in the pancreas. These play a valuable role in digestion, and the conversion of carbohydrates into energy for the body. Key issues governed by Manipur Chakra are issues of personal power, fear, anxiety, opinion-formation, introversion, and transition from base emotions to complex. Physically, Manipura governs digestion, mentally it governs personal power, emotionally it governs expansiveness, and spiritually, all matters of growth. Manipur chakra gives us well being in both material and spiritual life. It gives contentment and generosity. The third chakra is like a house with two doors. Wealth enters through one door and spreads from the other, thus continuing the cycle.

मणिपुर चक्र पाचन क्रिया से सम्बंधित है और भोजन के पाचन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। भोजन के पोषक तत्वों को पचा कर शरीर का पोषण करने की क्रिया को मणिपुर चक्र नियंत्रित करता है। जीवन में संतोष और संतुष्टि इसी चक्र की देन हैं।  मणिपुर चक्र  की  कल्पना एक ऐसे  घर से की जा सकती है जिसमें दो द्वार हैं। एक द्वार में से धन अंदर आता है और दूसरे द्वार से बाहर निकल जाता है।  संचित और संग्रह करने की प्रवृत्ति इस चक्र की नहीं है।

Fourth Chakra or Anahat Chakra is symbolized by a circular flower with twelve green petals. Within it is a yantra of two intersecting triangles, symbolizing a union of the male and female. The seed mantra is Yam, the presiding deity is Rudra Shiva, and the Shakti is Kakini.  Anahata is related to the thymus,
04.Anahat Chakra

located in the chest.

चौथे या अनाहत चक्र की परिकल्पना एक हरे रंग के वृत्ताकार पुष्प के रूप में की गयी है जिसमें बारह पंखुड़ियां हैं। इसके ठीक बीच में शिव और शक्ति के दो त्रिकोण स्थापित हैं जो कि पुरुष और स्त्री प्रवृत्तियों के मिलन को इंगित करते हैं।  इसका बीज मन्त्र यं है अधिष्ठात्री देवता रूद्र शिव हैं और इसकी शक्ति काकिनी है।  अनाहत चक्र थाइमस ग्लैंड से सम्बंधित है।

The thymus is an element of the immune system as well as being part of the endocrine system. It is the site of maturation of the T cells responsible for fending off disease and may be adversely affected by stress. Anahata is related to the colours green or pink. Key issues involving Anahata involve complex emotions, compassion, tenderness, unconditional love, equilibrium, rejection and well-being.

थाइमस हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली का अभिन्न अंग है। बीमारी से लड़ने वाले T cells की परिपक्वता यहीं पूरी होती है।  मानसिक तनाव का इस चक्रपर नितांत बुरा प्रभाव पड़ता है। अनाहत का सम्बन्ध हरे और गुलाबी रंगों है और यह जटिल भावनाओं, करुणा, कोमलता, बिना शर्त प्यार, संतुलन, और सुख का द्योतक है।

Physically Anahata governs circulation, emotionally it governs unconditional love for the self and others, mentally it governs passion, and spiritually it governs devotion. Our fourth chakra is our heart chakra which gives pure love, compassion, the quality of being a good parent, self confidence and detachment.

शारीरिक रूप से अनाहत रक्त परिसंचरण को नियंत्रित करता है, भावनात्मक रूप से यह स्वयं और दूसरों के लिए बिना शर्त प्यार दर्शाता है। मानसिक रूप से यह जुनून को नियंत्रित करता है, और आध्यात्मिक रूप से भक्ति को नियंत्रित करता है। हमारा चौथा चक्र शुद्ध प्रेम, करुणा, एक अच्छे माता पिता बनने की क्षमता , आत्मविश्वास और साक्षी भाव को दर्शाने वाला भाव है।

 Venus is the ruling planet of Anahat Chakra, and represents love, beauty and art. Strong Venus in a birth chart gives a person significant beauty and attraction. This beauty spreads from the inner nature of a person and reflects on the behavior and attitude of a person.

शुक्र अनाहत चक्र का स्वामी है, और प्रेम, सौंदर्य और कला का प्रतिनिधित्व करता है। एक जन्म कुंडली में सशक्त शुक्र मनुष्य को सुंदरता और आकर्षण देता। यह आंतरिक सौंदर्य को दिखाता है व्यक्ति के जीवन के प्रति दृष्टिकोण को दर्शाता है.

How did you like this article? Please leave your comments and Blog topics for future.

Readers also liked

Jyotish and Chakras Part – III Vishuddh and Ajna Chakras.

And

Will Arvind Kejriwal win 2017 Punjab elections?

Rajiv Sethi

rajiv@hinduvedicastro.in

planetstories@gmail.com

Phone consultation: 9899589211

Hindu Vedic Astro is your perfect platform for Yearly and monthly horoscopes. All services like astrology readings, astrology compatibility and astrology reports for all zodiac signs are just a phone call away. Your detailed birth chart is sent absolutely free with every report. Call right now for step by step, simple and easy remedies that work quickly to put your life back on track.
This article is copyrighted 2016. It cannot be used in part or as a whole without the written permission of the author Rajiv Sethi.
Infringement will be prosecuted to the full extent of the law.

Leave a comment

  • Hindu Vedic Astro

    Perfect Platform for Your Health, Money, Career, Business Obstacle, Match Making & Family Prediction.

    Book your Appointment to get Personalised hygroscopic prediction today.

  • Social Links

    Contact Details

    Mobile : +91-9899589211
    Email : rajiv@hinduvedicastro.in
    Rajiv Sethi
    New Delhi, India

  • Reach Us